: An excellent satirical description of middle class byHari Shankar ParsayiPosted byDr.Lok Raj 

 कुत्ते में और आदमी में यही मूल अंतर है  


	हरिशंकर परसाई  

 मेरे मित्र की कार बंगले में घुसी तो उतरते हुए मैंने पूछा, “इनके यहां कुत्ता तो नहीं है?“ मित्र ने कहा, “तुम कुत्ते से बहुत डरते हो!” मैंने कहा, “आदमी की शक्ल में कुत्ते से नहीं डरता. उनसे निपट लेता हूं. पर सच्चे कुत्ते से बहुत डरता हूं.“ 


 कुत्तेवाले घर मुझे अच्छे नहीं लगते. वहां जाओ तो मेजबान के पहले कुत्ता भौंककर स्वागत करता है. अपने स्नेही से “... ...  #Promote the Blog www.punjabscreen.blogspot.com 
Share to Promote this Blog